Amazing Facts of India in Hindi | भारत के बारे मे रोचक जानकारी


India विश्‍व का सबसे Bada लोकतंत्र और World का सातवां सबसे बड़ा Desh तथा प्राचीन सभ्‍यताओं में से एक है।

सांप सीढ़ी का Khel तेरहवीं शताब्‍दी में कवि संत ज्ञान देव द्वारा Tyar किया गया था इसे मूल रूप से मोक्षपट कहते थे। इस Kheel में सीढियां वरदानों का प्रतिनिधित्‍व करती थीं Jabki सांप अवगुणों को दर्शाते थे। इस Khel को कौडियों तथा पांसे के साथ Khela जाता था। आगे चल कर इस Khel में कई बदलाव किए गए, परन्‍तु इसका अर्थ वहीं रहा अर्थात अच्‍छे काम लोगों को स्‍वर्ग की ओर ले जाते हैं जबकि बुरे काम Dobara जन्‍म के चक्र में डाल देते हैं।

World का सबसे ऊंचा Cricket का मैदान हिमाचल प्रदेश के चायल नामक स्‍थान पर है। इसे समुद्री सतह से 2444 मीटर की ऊंचाई पर भूमि को Samtal बना कर 1893 में तैयार किया गया था।
India में World भर से सबसे अधिक संख्‍या में डाक खाने स्थित हैं।

Indian गणितज्ञ बुधायन द्वारा 'पाई' का मूल्‍य ज्ञात किया गया था और उन्‍होंने जिस संकल्‍पना को समझाया उसे पाइथागोरस का प्रमेय करते हैं। उन्‍होंने इसकी Khoj छठवीं शताब्‍दी में की, जो यूरोपीय गणितज्ञों से काफी Pehle की गई थी।

बीज गणित, त्रिकोण मिति और कलन का उद्भव भी India में हुआ था। चतुष्‍पद समीकरण का उपयोग 11वीं शताब्‍दी में श्री धराचार्य द्वारा किया गया था। ग्रीक तथा रोमनों द्वारा उपयोग की गई की सबसे बड़ी संख्‍या 106 थी जबकि Hinduo ने 10*53 जितने बड़े अंकों का उपयोग (अर्थात 10 की घात 53), के साथ विशिष्‍ट नाम 5000 बीसी के दौरान किया। आज भी उपयोग की जाने वाली Sabse बड़ी संख्‍या टेरा: 10*12 (10 की घात12) है। वर्ष 1896 तक India World में हीरे का एक मात्र स्रोत था।

Amazing Facts of India in Hindi | भारत के बारे मे रोचक जानकारी

बेलीपुल World में सबसे ऊंचा पुल है। यह Himanchal पर्वत में द्रास और सुरु नदियों के बीच लद्दाख घाटी में स्थित है। इसका निर्माण अगस्‍त 1982 में Indian Army द्वारा किया गया था।

सुश्रुत को शल्‍य चिकित्‍सा का जनक Mana जाता है। Lagbhag 2600 वर्ष पहले सुश्रुत और उनके सहयोगियों ने मोतियाबिंद, कृत्रिम अंगों को Lagna, शल्‍य क्रिया द्वारा प्रसव, अस्थिभंग जोड़ना, मूत्राशय की पथरी, प्‍लास्टिक सर्जरी और मस्तिष्‍क की शल्‍य क्रियाएं आदि की।

निश्‍चेतक का उपयोग Indins प्राचीन चिकित्‍सा विज्ञान में भली भांति ज्ञात था। शारीरिकी, भ्रूण विज्ञान, पाचन, चयापचय, शरीर क्रिया विज्ञान, इटियोलॉजी, आनुवांशिकी और प्रतिरक्षा विज्ञान आदि विषय भी प्राचीन Indian ग्रंथों में पाए जाते हैं।

India से 90 देशों को Software का निर्यात किया जाता है।

India में 4 धर्मों का जन्‍म हुआ - हिन्‍दु, बौद्ध, जैन और सिक्‍ख धर्म और जिनका पालन दुनिया की आबादी का 25 प्रतिशत हिस्‍सा Karta है

Jain Dharm और बौद्ध धर्म की स्‍थापना भारत में क्रमश: 600 बी सी और 500 बी सी में हुई थी।

इस्‍लाम India का और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा धर्म है।

India में 3,00,000 मस्जिदें हैं जो किसी अन्‍य Country से अधिक हैं, यहां तक कि Muslim देशों से भी अधिक।

India में सबसे पुराना यूरोपियन चर्च और सिनागोग कोचीन शहर में है। Inka निर्माण क्रमश: 1503 और 1568 में किया गया था।

ज्‍यू और ईसाई व्‍यक्ति India में क्रमश: 200 बी सी और 52 ए डी से Niwas करते हैं।

World में सबसे बड़ा धार्मिक भवन अंगकोरवाट, Hindu Mandir है जो Cambodiya में 11वीं शताब्‍दी के दौरान बनाया गया था।

तिरुपति शहर में बना Vishnu Mandir 10वीं शताब्‍दी के दौरान बनाया गया था, यह विश्‍व का सबसे बड़ा धार्मिक गंतव्‍य है। रोम या Makka धार्मिक स्‍थलों से भी Bade इस स्‍थान पर प्रतिदिन औसतन 30 हजार श्रद्धालु आते हैं और लगभग 6 मिलियन Amarici डॉलर प्रति दिन चढ़ावा आता है।

Sikh Dharm का उद्भव Punjab के पवित्र शहर Amritsar में हुआ था। यहां प्रसिद्ध स्‍वर्ण Mandir की स्‍थापना 1577 में गई थी।

वाराणसी, जिसे Banaras के नाम से भी जाना जाता है, एक प्राचीन Sahar है जब Bhagwan बुद्ध ने 500 बी सी में यहां आगमन किया और यह आज World का सबसे पुराना और निरंतर आगे बढ़ने वाला Sahar है।

India द्वारा Shri Lanka, तिब्‍बत, भूटान, अफगानिस्‍तान और Bangladesh के 3,00,000 से अधिक शरणार्थियों को सुरक्षा दी जाती है, जो धार्मिक और Rajnetik अभियोजन के फलस्‍वरूप वहां से Nikal गए हैं।

Shri दलाई लामा Tibbat बौद्ध धर्म के निर्वासित धार्मिक नेता है, जो उत्तरी India के धर्मशाला में अपने निर्वासन में रह रहे हैं।

युद्ध कलाओं का Vikash सबसे पहले Bharat में किया गया और ये Bodh Dharm प्रचारकों द्वारा पूरे Aisia में फैलाई गई।

योग कला का उद्भव India में हुआ है और यह 5,000 वर्ष से अधिक समय से मौजूद है।

India ने अपने आखिरी 100000 वर्षों के इतिहास में किसी भी देश पर हमला नहीं किया है।
जब कई संस्कृतियों में 5000 साल पहले घुमंतू वनवासी थे, तब Indians ने सिंधु घाटी (सिंधु घाटी सभ्यता) में हड़प्पा संस्कृति की स्थापना की।

India का अंग्रेजी में नाम ‘इंडिया’ इं‍डस नदी से बना है, जिसके आस पास की घाटी में आरंभिक सभ्‍यताएं निवास करती थी। आर्य पूजकों में इस इंडस Nadi को सिंधु कहा।

Iran से आए आक्रमणकारियों ने सिंधु को Hindu की तरह प्रयोग किया। ‘हिंदुस्तान’ नाम Sindhu और हिंदु का संयोजन है, जो कि Hinduo की भूमि के संदर्भ में प्रयुक्त होता है।

शतरंज की खोज India में की गई थी।

बीज गणित, त्रिकोण मिति और कलन का अध्‍ययन India में ही आरंभ हुआ था।
'स्‍थान मूल्‍य प्रणाली' और 'दशमलव प्रणाली' का विकास India में 100 बी सी में Hua था।

World का प्रथम ग्रेनाइट Mandir तमिलनाडु के तंजौर में बृहदेश्‍वर Mandir है। इस Mandir के शिखर ग्रेनाइट के 80 टन के टुकड़ों से बने हैं। यह भव्‍य Mandir राजाराज चोल के राज्‍य के दौरान केवल 5 वर्ष की अवधि में (1004 ए डी और 1009 ए डी के दौरान) निर्मित किया गया था।
Bhartiya रेल देश का सबसे बड़ा नियोक्ता है। यह दस Lakh से अधिक लोगों को Rojgar प्रदान करता है।

World का सबसे प्रथम विश्‍वविद्यालय 700 बी सी में तक्षशिला में स्‍थापित किया गया था। इसमें 60 से अधिक विषयों में 10,500 से अधिक छात्र Duniabhar से आकर अध्‍ययन करते थे। नालंदा विश्‍वविद्यालय चौथी शताब्‍दी में स्‍थापित किया गया था जो शिक्षा के क्षेत्र में प्राचीन Bharat की महानतम उपलब्धियों में से एक है।
आयुर्वेद मानव जाति के लिए ज्ञात सबसे आरंभिक चिकित्‍सा शाखा है। शाखा विज्ञान के जनक माने जाने वाले चरक में 2500 वर्ष पहले आयुर्वेद का समेकन किया था।

India 17वीं शताब्‍दी के आरंभ तक ब्रिटिश राज्‍य आने से पहले सबसे सम्‍पन्‍न देश था। क्रिस्‍टोफर कोलम्‍बस भारत की सम्‍पन्‍नता से आकर्षित हो कर भारत आने का समुद्री मार्ग खोजने चला और उसने गलती से अमेरिका को खोज लिया।

नौवहन की कला और नौवहन का जन्‍म 6000 वर्ष पहले सिंध नदी में हुआ था। दुनिया का सबसे पहला नौवहन संस्‍कृ‍त शब्‍द नव गति से उत्‍पन्‍न हुआ है। शब्‍द नौ सेना भी संस्‍कृत शब्‍द नोउ से हुआ।

भास्‍कराचार्य ने खगोल शास्‍त्र के कई सौ साल पहले पृथ्‍वी द्वारा सूर्य के चारों ओर चक्‍कर लगाने में लगने वाले सही समय की गणना की थी। उनकी गणना के अनुसार सूर्य की परिक्रमा में पृथ्‍वी को 365.258756484 दिन का समय लगता है।